महाराष्ट्र ATS बांट रही है 2015 के कैलेंडर में आतंकियों की तस्वीरें

Posted on June 27 2015 by pits

चंदन पवार (मुंबई): महाराष्ट्र ऐंटी टेररेज़म स्क्वॉड (ATS) की पुणे शाखा इन दिनों वॉन्टेडनाम से एक पॉकेट कैलेंडर पूरे शहर भर में बांट रही है। इस कैलेंडर में विभिन्न आतंकवादी हमलों व अन्य चरमपंथी वारदातों में संदेही आरोपियों की तस्वीर छपी हुई हैं।साल 2015 के कैलेंडर के साथ-साथ इसमें 13 संदेही आतंकवादियों की तस्वीरें हैं। इनमें से ज्यादातर पर लश्कर-ए-तोइबा, इंडियन मुजाहिदिन और कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-एम के साथ जुड़े होने का आरोप है।
इनमें जिन संदेहियों की तस्वीरें हैं उनमें से कई की तालाश ATS कई नामी घटनाओं के सिलसिले में कर रहा है। जर्मन बेकरी ब्लास्ट, जे.एम.रोड सीरियल ब्लास्ट, फराशखाना-विश्रामबाग पुलिस थानों की वाहन पार्किंग में हुए ब्लास्ट, 2006 में हुए मुंबई लोकल ट्रेन ब्लास्ट और माओवादी गतिविधियों जैसे कई दर्जन मामलों में ATS इन आरोपियों को खोज रही है।

इन सब मामलों की जांच ATS की निगरानी में चल रही है। सहायक कमिश्नर ऑफ पुलिस (ATS) भानुप्रताप बार्गे ने इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के हवाले से कहा कि उक्त कैलेंडर पुलिस कर्मचारियों के साथ-साथ आम लोगों के बीच भी बांटा जा रहा है। इन कैलेंडरों में ATS के पुणे और मुंबई में स्थित कार्यालयों का संपर्क नंबर दिया गया है। इन आरोपियों के बारे में कोई भी जानकारी होने पर किसी भी समय ATS के साथ संपर्क किया जा सकता है।

आरोपी आतंकवादियों की प्रोफाइल में ये नाम कुछ इस तरह शामिल हैं-

मुहम्मद राहिल अतूर रहमान शेख: 11 जुलाई 2006 को मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए सिलसिलेवार विस्फोटों में प्रमुख आरोपी। इसके LET से जुड़े होने का संदेह है। यह कुबेरा गार्डन, कोंधावा, पुणे और थाने में ठहरा था।

रिजवान मुहम्मद दवारे: 11 जुलाई 2006 को मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए सिलसिलेवार विस्फोटों में आरोपी। इसके LET से जुड़े होने का संदेह है। यह वांडवी के शिवारकर रोड, प्रेमानंद पार्क का निवासी था।

सोहेल उस्मान गनी शेख: मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए ब्लास्ट मामले का आरोपी। यह भी तथाकथित LET का आतंकी है। यह पुणे कैंप के गफर बेग गली का निवासी था।

रियाज इस्माइल शाहबंदरी अलियास रियाज भटकल, इकबाल इस्माइल शाहबंदरी अलियास इकबाल भटकल: इंडियन मुजाहिदिन का गठन करने व इसके शीर्ष कमांडर होने के ये दोनों आरोपी हैं। फरवरी 2010 में हुए जर्मन बेकरी ब्लास्ट और अगस्त 2012 में हुए जे.एम.रोड विस्फोटों के मास्टरमाइंड भी माने जाते हैं। कर्नाटक के भटकल में स्थित मदीन कॉलोनी के फातिमा मंजिल के निवासी थे।

मोहसिन इस्माइल चौधरी: जर्मन बेकरी ब्लास्ट का आरोपी। इंडियन मुजाहिदिन से जुड़ा हुआ है। कोधांवा में स्थित मोठा नगर के मनीषा अपार्टमेंट में रहता था।

शेख महबूब अलियास गुड्डु शेख अलियास इस्माइल, अमजद रमजान खान, जाकिर हुसैन बदरुल हुसैन अलियास सादिक: फराशखाना-विश्रामबाग पुलिस थानों के वाहन पार्किंग में हुए विस्फोट में इन तीनों की तालाश है। इनका संबंध सिमी से माना जाता है। ये मध्य प्रदेश के खांडवा के गणेश तलाई के रहने वाले थे। अक्टूबर 2013 में ये तीनों खांडवा जेल से भाग गए थे।

मुहम्मद सालिक अलियास सल्लू अब्दुल हकीम: फराशखाना-विश्रामबाग पुलिस थाने में हुए विस्फोट मामले में आरोपी। यह भी मध्य प्रदेश के खांडवा का रहने वाला था। सिमी से संबंध होने का आरोप है।

प्रशांत जलिंदर कांबले अलियास लैपटॉप: सीपीआई-एम का आरोपी। यह पुणे के तड़ावाला रोड स्लम का रहने वाला था। 2011 में जब ATS ने आरोपी माओवादी अंगेला सोंताके के साथ कई अन्य कबीर कला मंच के कलाकारों को हिरासत में लिया था तब से ही यह फरार बताया जाता है। ATS के मुताबिक यह माओवादियों की गदचिरौली के जंगलों में कार्यरत तकनीकी टीम का हिस्सा है।

फयाज कागजी अलियास जुल्फिकार अहमद: जर्मन बेकरी ब्लास्ट सहित कई अन्य आतंकवादी घटनाओं में आरोपी है। यह महाराष्ट्र के बीट जिले के शिवाजीनगर का निवासी है।

Powered By Indic IME