मुंबई बीएमसी का महाबजट पानी सप्लाई योजना पर जोर

Posted on February 11 2015 by pits

मुंबई : बुधवार को स्थाई समिति की बैठक में पेश हुए बीएमसी के साल 2015-16 के 33,514.15 करोड़ रुपये के बजट में आम नागरिकों को पर्याप्त पानी सप्लाई देने की योजना पर जोर दिया गया। इसके लिए गारगाई व पिंजाल योजना के लिए 140.36 करोड़ की राशि का प्रबंध किया गया। जल व्यवस्था में सुधार लाने के लिए मरोशी से रूपारेल महाविद्यालय, गुंदवली से भांडुप, पवई से वेरावली व घाटकोपर, चेंबूर से ट्रॉम्बे जलाशय और चेंबूर से परेल (वडाला मार्ग) पर जल सुरंग बनाने का काम किया जा रहा है। इसके लिए 513 करोड़ रुपये की राशि का प्रबंध किया गया है। पानी सप्लाई सही ढंग से हो इसके लिए तानसा के पुराने पाइपलाइनों को बदलने के लिए 158 करोड़ रुपये की राशि की व्यवस्था की गई है।

पाइपलाइनों के पुनर्वसन के लिए 14 करोड़ रुपये और शहर व उपनगरों की पाइपलाइनों को बदलने के लिए 84.50 करोड़ रुपये का प्रबंध किया गया है, वहीं मुंबई जल वितरण सुधार के लिए 93.95 करोड़ रुपये का प्रबंध किया गया है।

 

अहम बातें

- पिछले साल का पानी सप्लाई का बजट था- 1,498 करोड़ रुपये

- खर्च किए गए- 728 करोड़ रुपये

- इस साल पानी सप्लाई योजना के लिए बजट- 6126.27 करोड़

- गारगाई व पिंजाल योजना से मिलेगा- 1 हजार 300 लाख लीटर पानी

- आने वाले 10 सालों के लिए पानी की समस्या होगी दूर

कहां कितना होगा खर्च

चेंबूर-अमरमहल-ट्रांबे और चेंबूर-अमरमहल-वडाला-नायगांव इन दोनों योजनाओं के तहत जल सुरंग (टनल) बनाने के लिए 1100 करोड़ रुपये का प्रबंध।

गारगाई और पिंजाल योजनाओं को पूरा करने के लिए 140 करोड़ रुपये।

जलआपूर्ति विभाग के लिए 2500 करोड़ रुपये।

नई डपिंग लाने के लिए करीब 15 करोड़ रुपये।

जनजागृति के लिए विज्ञापन इत्यादि पर 15 करोड़ रुपये।

सूखे और गीले कचरे के वर्गीकरण के लिए 13 करोड़ रुपये।

गोरेगांव-मुलुंड लिंक रोड के लिए 200 करोड़ रुपये।

रास्तों की मरम्मत इत्यादि के लिए करीब 3500 करोड़ रुपये।

नरीमन पॉइंट-मालाड-कांदिवली में कोस्टल रोड बनाने के लिए 300 करोड़ रुपये।

स्वच्छता अभियान के लिए 15 करोड़ रुपये।

बीएमसी इंग्लिश और सेमी इंग्लिश स्कूलों के लिए 300 करोड़ रुपये।

पुरानी बोतल में नई शराब जैसा बजट

बीएमसी सूत्रों के मुताबिक, बीएमसी प्रशासन ने पुराने बजट को ही नया स्वरूप देने की कोशिश की है। इस साल के आर्थिक बजट में आरोग्य विभाग, मलनिसारण, घनकचरा, रोड, ट्रैफिक, शिक्षा पर विशेष ध्यान देते हुए बड़ी राशि की उपलब्धता की गई है। महिलाओं के लिए विभिन्न योजनाएं बनाना, पानी की समस्या को दूर करने पर विशेष ध्यान देना भी बजट में शामिल है। आर्थिक बजट में बेस्ट की मदद के लिए नया स्वतंत्र नागरी परिवहन टैक्स का सुझाव भी दिया गया है।

मार्केट की मरम्मत और पुनर्रचना, रास्तों के विकास कार्य को गति, पानी सप्लाई योजना, थीम पार्क और उद्यानों का विकास, स्कूलों की मरम्मत और पुनर्रचना, पाइपलाइनों की मरम्मत, मीठी नदी का पर्यटन क्षेत्र में रूपांतरण, आरोग्य सेवा का दर्जा सुधारना, घनकचरा का व्यवस्थापन, पुरानी पाइपालाइनों को बदलकर नई पाइपलाइनें लगाना इत्यादि पुरानी योजनाओं को पूरा करने के लिए आर्थिक बजट में भारी राशि की उपलब्धता कराई गई है।

बीएमसी के पिछले पांच बजट की राशि

साल कुल बजट (करोड़ रुपये में)

2010-11 20, 417

2011-12 21,096

2012-13 26, 581

2013-14 27, 759

2014- 15 31, 172

Powered By Indic IME