प्रकृति के अनुकूल बनाएं अपना घर

Posted on November 23 2014 by pits

प्राय: लोग अपने घरों की फुलवारी में या लॉन में छोटे-छोटे पौधे लगाया करते हैं. भवन में छोटे पौधों का अपने आप में बहुत महत्व होता है. घर में लगाए जाने वाले छोटे पौधों में कई पौधे ऐसे होते हैं जिनका औषधीय महत्व है. साथ ही उनका रसोई या सौंन्दर्य संबंधी महत्व भी है. बता दें कि भारतीय दवा प्रणाली में आयुर्वेद, यूनानी और सिद्ध दवाओं का बहुत महत्व है.

गौरतलब है कि लगभग 2,000 देशी प्रजातियों के पौधों में रोगनाशक गुण हैं और 1,300 प्रजातियां अपने सुगंध और स्वाद के लिए जानी जाती हैं. आज के समय में स्थान के अभाव में प्राय: लोग गमलों में ही पौधे लगाते हैं या लॉन तथा ड्राइंगरूम में सजाकर रख देते हैं. इन पौधों एवं लताओं की वजह से छोटे फ्लैटों में निवास करने वाले खुद को प्रकृति के नजदीक महसूस करते हैं एवं स्वच्छ हवा तथा स्वच्छ वातावरण का आनंद उठाते हैं.

अगर आपके घर में पेड़-पौधे लगाने का स्थान नहीं है तो घर के भीतर मनी प्लांट लगा सकते हैं. इससे घर की सुंदरता के साथ-साथ ही समृद्धी में बढ़ौतरी होती है.

-    मनी प्लांट को बाजार से खरीदने की बजाय किसी के घर से चोरी करके लगाना अधिक फलदायी होता है. मनी प्लांट के खराब हो रहे पत्तों को हमेशा छांटते रहें.

-    तुलसी का पौधा इसी प्रकार का एक छोटा पौधा है जिसके औषधीय एवं आध्यात्मिक दोनों ही महत्व हैं. प्राय: प्रत्येक हिन्दू परिवार के घर में एक तुलसी का पौधा अवश्य होता है. इसे दिव्य पौधा माना जाता है. माना जाता है कि जिस स्थान पर तुलसी का पौधा होता है वहां भगवान विष्णु का निवास होता है. साथ ही वातावरण में रोग फैलाने वाले कीटाणुओं एवं हवा में व्याप्त विभिन्न विषाणुओं के होने की संभावना भी कम होती है. तुलसी की पत्तियों के सेवन से सर्दी, खांसी, एलर्जी आदि की बीमारियां भी नष्ट होती हैं.

-    अशोक के पेड़ को घर में रोपित करने से जीवन में आनेवाले शोक को दूर किया जा सकता है. इससे घर में रहनेवालों के बीच आपसी प्रेम और सौहार्द बढ़ता है.

-    केले का वृक्ष और तुलसी का पौधा एकसाथ लगाने से घर में श्री हरि और मां लक्ष्मी का आशिर्वाद बना रहता है.

कांटेदार पेड़ पौधे लगाने से घर में आर्थिक, शारीरिक एवं मानासिक परेशानियां बनी रहती हैं इसलिए इन्हें घर में नहीं लगाना चाहिए.

Powered By Indic IME