स्वयं बनें अपने डॉक्टर

Posted on October 13 2014 by pits

कुछ बीमारियों में आप स्वयं के डॉक्टर बन सकते हैं. वहीँ घरेलू नुस्खे भी बहुत काम आते हैं. कुछ खास टिप्स. इन्हें प्रयोग में लाने से आप घर बैठे ही स्वस्थ हो सकते हैं-

1)  दाद, खाज, खुजली, घाव इत्यादि होने पर पिसी हुई अजवायन दिन में दो बार लें.

2)  पेट में दर्द हो और भूख नहीं लगती हो तो अजवायन, काली मिर्च, सेंधा नमक पीस कर गर्म पानी के साथ लें.

3)  आधा चम्मच पिसी हुई सौंठ को फांक कर ऊपर से गुनगुना दूध पीने से जुकाम दूर होता है. इसे सुबह और रात को सोते समय लें.

4)  खाना खाते ही शौच लगना या दिन में कई बार शौच जाना पड़ता हो और संग्रहणी हो तो बेल का 30 ग्राम गूदा, 5 ग्राम सौंठ और 10 ग्राम गुड़ मिलाकर लें. इसी तरह दिन में दो या तीन बार यह मिश्रण लगातार 3-4 दिन तक लेने से लाभ होता है.

5)  पीलिया होने पर सफेद प्याज का रस, गुड़ और हल्दी को एक साथ घोंट कर नाक से सूंघें.

6)  बवासीर होने पर पकी नीम की निंबौली पुराने गुड़ के साथ दिन में तीन बार खाएं.

7)  पागल कुत्ते, बिच्छू अथवा मधुमक्खी आदि के डंक मारने पर शीघ्र ही हल्दी का लेप करें.

8)  दांतों में कीड़ा लग जाने पर दालचीनी के तेल में रुई का फाहा बनाकर भिगोकर दांतों पर लगाएं.

9)  बार-बार पेशाब आने पर आंवले का रस पानी में मिलाकर सुबह-शाम तीन दिन तक पीएं.

10)बाल झडऩे पर एक लीटर पानी में आधा चम्मच सिरका मिलाकर इस पानी से सिर धोएं.

11)पेट दर्द होने पर भुनी हुई सौंफ खाने से लाभ होता है.

12)मुंह में छाले हो जाने पर तुलसी के पत्तों का रस पानी में मिलाकर कुल्ले करें.

13)कान में दर्द होने पर भुनी हुई फिटकरी कान में डालें. ऊपर से दो बूंद नींबू का रस डालें.

14)कब्ज होने पर गुनगुने पानी में नींबू निचोड़ कर पीएं.

15)गंजापन होने पर सूखे धनिए को पीसकर बालों में लेप करें.

16)खूनी दस्त लगे हों तो पिसे हुए धनिए में मिश्री डालकर खाने से लाभ होता है.

17)चोट लगने पर यदि खून बंद न हो तो पिसा हुआ धनिया घाव पर लगाएं.

18)शरीर के किसी भी अंग पर सूजन आ गई हो तो धनिए को सिरके में पीस कर लेप करें.

19)जल जाने पर तत्काल शहद का लेप करने से जलन बंद हो जाती है.

20)दही में शहद मिलाकर बच्चों को चटाने से उनके दांत बड़ी आसानी से बिना दर्द के निकल आते हैं.

हड्डी टूट जाने पर नियमित रूप से शहद का सेवन करने से हड्डी जल्दी जुड़ती है.

Powered By Indic IME