क्या भाजपा के वरिष्ठ नेता उत्साही कार्यकर्ताओं को रोकेंगे?

Posted on August 25 2014 by pits

चंदन पवार: जब से केंद्र में भाजपा की सरकार आई है तब से कुछ अविचारी कार्यकर्ता अपने आपको सत्ताधारी समझने लगे हैं, वह भूल गए हैं कि उनके बोलचाल से मोदी भी खुश नहीं होंगे परन्तु उनकी नादानी की वजह से भाजपा के व्यवहार पर उंगली उठाई जा रही है. झारखण्ड, हरियाणा और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों को उनके भाषण के दौरान जिस तरह भाजपा के कार्यकर्ता द्वारा मोदी-मोदी के नारे लगाए गए उससे इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों का अपमान हुआ है, ऐसा इन मुख्यमंत्रियों का मानना है.

महाराष्ट्र में जब प्रधानसेवक नरेन्द्र मोदी नागपुर के मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के उद्घाटन के लिए आए थे उस समारोह में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण जान बूझकर उपस्थित नहीं हुए और क्यों उपस्थित रहते जिस तरह भाजपा पार्टी सरकारी कार्यक्रमों में भाजपा का प्रचार करने में जुटी है उसे देख किसी भी पार्टी का मुख्यमंत्री उपस्थित हो नहीं सकता है. नागपुर के इस समारोह के लिए पूरे महाराष्ट्र में एक लाख भाजपा कार्यकर्ताओं को लाने का नियोजन किया गया और समारोह की जगह पर सिर्फ भाजपा के झंडे, नरेन्द्र मोदी और नितिन गडकरी के पोस्टरों के अलावा कुछ नहीं दिख रहा था.

जिस तरह नरेंद्र मोदी कांग्रेस के शाशन काल में बनाई योजनाओं को भाजपा की योजना बताकर उद्घाटन कर रहे हैं उससे आहत होकर कांग्रेस की अध्यक्षा अपने भाषण में नरेन्द्र मोदी पर टिप्पणी करते हुए बोली कि ‘सरकार हमारी योजनाओं का श्रेय ले रही है.’ देखा जाए तो कुछ ऐसी योजनाएं हैं जिसे कांग्रेस सरकार ने लाई है और भाजपा सरकार ने सिर्फ पेश किया.

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार को भी इस समारोह का निमंत्रण बड़ी देर दिया गया था और इस निमंत्रण पत्रिका के साथ में जो सरकारी अधिकृत पत्र होता है वह पत्र भी नहीं दिया गया था.भाजपा द्वारा ऐसा करने से कई लोग दुखी हो गए हैं. एक राज्य के उप मुख्यमंत्री को कम से कम प्रोटोकॉल का ख्याल रखते हुए तो सम्मान मिलना ही चाहिए.

नागपुर के मेट्रो कार्यक्रम के दौरान प्रधान सेवक नरेंद्र मोदी ने नागपुर को मेट्रो सिटी बनाने का वादा करने के साथ-साथ भारत देश को 100 स्मार्ट सीटियों की जरूरत है ऐसा भी कहा. शहरीकरण आज एक जरूरत है न की संकट. इसलिए देश के विकास के लिए मुझे अपना साथ दो ऐसा भी आवाहन मोदी द्वारा किया गया.

इस विषय में कुछ प्रतिक्रियाएं

पृथ्वीराज चव्हाण (मुख्यमंत्री,महाराष्ट्र): मोदी की उपस्थितियों में ये जो कुछ भाजपा कार्यकर्ता कर रहे हैं यह भाजपा की पहले से सोची साजिश है, जिसका मैं विरोध करता हूं.

अजित पवार (उप-मुख्यमंत्री,महाराष्ट्र): अगर मेरे समारोह में किसी सरपंच का अपमान किया जाता है तो वह पूरे गाँव का अपमान है. वैसे ही अगर मुख्यमंत्री का अपमान हुआ है तो मैं मानता हूं कि यह पूरे राज्य के जनता का अपमान हुआ है.

वेंकेय्या नायडू (केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री): पृथ्वीराज चव्हाण को नरेंद्र मोदी के समारोह में ना आने के लिए सोनिया गांधी का आदेश है इसलिए शायद मुख्यमंत्री नागपुर के समारोह में उपस्थित नहीं हुए हैं.

Powered By Indic IME