10वीं की छात्रा को मंहगी पड़ी फेसबुक की चैटिंग

Posted on June 23 2014 by yogesh

बरेली : समय के साथ सोशल साइट्स के कई खतरनाक पहलू सामने आए हैं. हाल ही में सोशल साइट्स की चैटिंग किसी की जिंदगी पर कितना भारी असर डाल सकतेहैं, इसका खुलासा जनपद में एक ताजा प्रकरण में हुआ है. गौरतलब है कि फेसबुक पर हुईदोस्ती दसवीं की एक छात्रा को मुंगेर से बरेली तक खींच लाई.

बता दें कि घरवालों सेनाराज होकर अपने पुरुष मित्र के पास पहुंची इस छात्रा की किस्मत अच्छी थीकि युवक ने स्टेशन पर लड़की के पहुंचने पर उसके परिवारवालों को फोन परसूचना दे दी, जिसके बाद लड़की को परिजनों के सुपुर्द किया गया, वरना छात्राके साथ कुछ भी अनहोनी हो सकती थी. शहर के एक कॉलेज में बीएससी द्वितीय वर्ष के छात्र की फेसबुक पर मुंगेर केप्रतिष्ठित स्कूल की इस छात्रा से दोस्ती हो गई थी.

जानकारी के अनुसारलड़की पढऩे में बहुत अच्छी है और इसी कारण पिता ने उसे एक एंड्रायड फोन देदिया ताकि वह इंटरनेट से जरूरी जानकारियां जुटाती रहे. करीब छह महीने पहलेजब लड़की नौवीं कक्षा में थी तो उसने एक नाम पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी. लड़कियों जैसा यह नाम बरेली के छात्र का था. मगर छात्र की फोटो नहीं लगीहोने के कारण लड़की उसे समझ नहीं पाई थी. इसके बाद जब दोनों का परिचय हुआतो हकीकत सामने आई लेकिन दोनों की दोस्ती चलती रही.

इस बीच लड़की के लगातार फोन पर व्यस्त रहने के कारण जब उसकी मां ने उसेडांटा तो लड़की ने नाराज होकर लड़के को फेसबुक पर ही मैसेज भेज दिया कि वहघर छोड़ कर उसके पास आ रही है. युवक ने हामी भर दी तो छात्रा कुछ पैसे व दोबैग में सामान लेकर सियालदाह एक्सप्रेस से बनारस पहुंच गई. इसके बाद भटकतेहुए वह गोरखपुर जा पहुंची. जहां से युवक के बताने पर बनारस हरिद्वारएक्सप्रेस पकड़कर वह शनिवार को बरेली जंक्शन पर उतर गई.

इसके बाद युवक प्लेटफार्म पर दोस्तों के साथ छात्रा से मिलने तो आया, लेकिनउसे अपने साथ ले जाने से इंकार कर दिया और समझदारी भरा कदम उठाते हुए फोनपर उसके परिवारवालों को सूचना दे दी. छात्रा के परिजनों के रेलवे में पहचान होने के कारण लड़की सही सलामत घर पहुंच गई. वहीं पूरे प्रकरण को लड़की की नादानी मानकर लड़के कोछोड़ दिया गया.

Powered By Indic IME