हेल्थ टिप्स – गर्भवती महिलाओं जान ले यह कुछ खास बातें

Posted on June 23 2014 by yogesh

जबभी आप अपनी गर्भधारण की खबर की घोषणा करती हैं तो आपके इर्द-गिर्द आपकेपरिवार के सदस्य, रिश्तेदार तथा मित्र इत्यादि आपको सलाह देने के लिएइकट्ठे हो जाते हैं. ऐसे में आपको यह समझ नहीं आता कि किसकी बात मानी जाए और किसकी नहीं. गौरतलब है कि गर्भावस्था संबंधी बहुत-सी भ्रांतियां मौजूद हैं जिनके बारे में आम तौर पर महिलाओं को पता नहीं होता. आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ भ्रांतियों और उनके निवारण के बारे में-

भ्रांति: गर्भवती महिलाओं ज्यादा खाने की सलाह दी जाती है.
निवारण : ऐसा सिर्फ इसलिए न करें क्योंकि आप गर्भवतीहैं. दोहरा खाना खाने सेबचें. विशेषज्ञों के अनुसार सामान्य वजनवाली एकऔसत महिला के लिए गर्भवतीहोने से पहले प्रतिदिन लगभग 300अतिरिक्त कैलोरीज की जरूरत होती है ताकि इसबात को यकीनी बनाया जाए कि उसका भ्रूणस्वस्थ रहेगा. विशेषज्ञों की सलाहहै कि गर्भवती होने के बाद महिला का वजन 27 से 30 पौंड तक ही बढऩा चाहिए. इस बात को याद रखना चाहिए कि गर्भावस्थाके दौरान बढ़े हुए वजन को कम करनानवजन्मे बच्चे की देखभाल करते हुए बहुतही कठिन कार्य होता है. इस मामलेमें जेसिका सिम्पसन तथा किम कारदाशियांकी उदाहरण लिया जा सकता है जिन्होंनेमाना था कि गर्भावस्था के दौरान उनकावजन 50पौंड से अधिक हो गया था और इसेकम करने के लिए उन्हें बहुत प्रयासकरने पड़े.

भ्रांति: गर्भावस्था के दौरान बालों को कलर न करें.
निवारण:विशेषज्ञों के अनुसार महिलाओं को गर्भावस्था केदौरान बालों को कलर करनेसे एक पूर्व सावधानी के तौर पर ही बचना चाहिए. कई अध्ययनों में यह बातसामने आई है कि हेयर डाई या कलर में मौजूद रसायनबहुत हल्के ढंग से त्वचामें जज्ब हो जाते हैं. थोड़ी मात्रा में वे किसीप्रकार का खतरा पैदा नहींकरतेइसके लिए आदर्श तरीका यह है कि अपनी पहलीतिमाही के दौरान अमोनियायुक्त हेयर कलर या डाई का इस्तेमाल करने से बचें.

भ्रांति: कैफीन का सेवन पूरी तरह बंद कर दें.
निवारण:यदि आप उन महिलाओं में से हैं जो कैफीन के बिनानहीं रह सकतीं तो आपकोचिंता करने की जरूरत नहीं है. कई लोगों द्वारादावा किया जाता है कि कैफीनके सेवन से गर्भपात, समय पूर्व प्रसव या जन्मके समय बच्चे का बहुत कम वजनहोना इत्यादि समस्याएं हो सकती हैं. फिर भी प्रतिदिन 200 मि.ग्राम कैफीन का सेवन किया जा सकता है और इससे भ्रुण को कोई खतरा नहीं होता.

भ्रांति: इस दौरान सेक्स न करें.  
निवारण:जब तक आपका डॉक्टर न कहे तब तक सेक्स से दूर रहने की आपको कोई जरूरत नहीं है. यह एक भ्रांति है कि सेक्स भ्रुण के लिए नुक्सान दायक हो सकता हैजो एक एम्रियोटिक थैली, ताकतवर गर्भाशय कीमांसपेशियों तथा एक गाढ़ेम्यूकस प्लग द्वारा अच्छी तरह सुरक्षित होता है. आपके लिए महत्वपूर्ण जरूरत इस बात की है कि आप सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शंससे बचें क्योंकि यह आपके अजन्मे बच्चे तक संक्रमण पहुंचा सकती हैं.

Powered By Indic IME