इराक में फंसे हजारों भारतीय…..

Posted on June 23 2014 by yogesh

नई दिल्ली:हिंसाग्रस्त इराक में हजारों भारतीय नागरिक फंसे हुए हैं. बताया जा रहा है कि इनमें से 40 भारतीय कामगारों को अगवा कर लिया गया हैहालांकि किसी गुट ने अभी न तो इसकी जिम्मेदारी ली है और न ही कोई मांग रखीहै.पंजाब के डेप्युटी सीएम सुखबीर सिंह बादल के अनुसार ये 40 लोग पंजाब के हैं. अगवा भारतीयों की संख्या 50 तकहो सकती है,

गौरतलब है कि केंद्र सरकार अगवा भारतीय कामगारों की सुरक्षित वापसी के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. इराक में भारत के पूर्व राजदूत सुरेश रेड्डी को समझौतेके लिए भेजा गया है. रेड्डी को हाल ही में आसियान का विशेष दूत नियुक्तकिया गया है. रेड्डी को इराक में अच्छे संपर्क होने के कारण यह जिम्मेदारीसौंपी गई है.

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेश नीति के विशेषज्ञों और सुरक्षासलाहकारों को स्पष्ट कहा है कि अगवा भारतीयों की सुरक्षित वापसी में कोईकोताही नहीं बरती जाए. उधर, भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट किया हैकि सरकार भारतीयों को इराक से लाने के लिए विशेष विमान भेजे. उधर विदेशविभाग के प्रवक्ता ने कहा है कि वह इस बात को पक्के तौर पर नहीं कह सकते किइन लोगों को अगवा किया गया है लेकिन यह बात भी सही है कि इनसे कोई संपर्कनहीं हो पा रहा है. बताया गया है कि इराक से भारतीय नागरिकों को लाने केलिए वायुसेना तैयार है. उसे बस निर्देश का इंतजार है.

रिपोर्ट के मुताबिक इराक के मोसुल शहर में एक परियोजना के लिए काम कररहे 40 भारतीयों को अगवा कर लिया गया है. अगवा भारतीय वहां निर्माण क्षेत्रके काम में लगे थे. इन्हें अगवा करने के पीछे इस्लामिक स्टेट इन इराक एंडअल-शाम(आइएसआइएस) आतंकियों के हाथ होने की आशंका जताई जा रही है. रिपोर्टके मुताबिक, इराक के मोसुल शहर से जब इन भारतीयों को निकाला जा रहा था, तभी इन्हें अगवा कर लिया गया. सुन्नी जेहादियों ने मोसुल शहर को अपने कब्जेमें कर लिया था लेकिन स्थानीय कुर्द मिलिसिया ने आइएसआइएस के आतंकियों कोखदेड़ कर इस शहर पर अपना कब्जा जमा लिया है.

बता दें कि इराक के शहर में फंसी 46 भारतीय नर्सों को निकालने के लिए संपर्क साधा गया है. मगर कुछ नर्सें लौटने की इच्छुक नहीं है. इराक में करीब 10 हजार भारतीयों के होने का अनुमान है. इनमें से लगभग 100 हिंसा प्रभावित इलाकों में हैं

Powered By Indic IME