आत्मसाक्षात्कार और शाश्वत सुखका अनुभव करनेके लिए सत्संगमें भाग लीजिए

Posted on April 29 2014 by yogesh

मुंबई:-क्या आपने कभी सोचा है कि “मनुष्य जन्म का सही ध्येय (लक्ष्य) आखिर क्या है? क्या मैं केवल एक नाम हूँ या उससे परे भी मेरी कुछ पहचान और अस्तित्व है? क्या शाश्वत सुख और शांति का अनुभव कर पाना सचमुच संभव है?”

केवल यही नहीं पर ऐसे कई और मूल आध्यात्मिक एवं सांसारिक प्रश्नों के उत्तर परम पूज्य ए.एम.पटेल.यानी पूज्य दादा भगवान के द्वारा दिये गये हैं। उन्होंने कहा है कि आत्मा के परम सुख में निरंतर रहने के साथ ही इस संसार की भी सभी परिस्थितियों में समता रखी जा सकती है। “मैं कौन हूँ?”और “दुनिया कैसे चलती है?” ये जानने के बाद (यानी आत्मज्ञान प्राप्ति के बाद) यह सब संभव है । किसी भी प्रकार की मेहनत किए बगैर केवल दो घंटों में ही, ज्ञानी की कृपा से ज्ञानविधिद्वारा आत्म साक्षात्कार हो सकता है। इस अक्रम मार्ग से मिलनेवाले आत्मज्ञान से जीवन की सभी समस्याओं का निवारण किया जा सकताहै।बहुत सारे लोगों ने इस शाश्वत सुख का अनुभव किया है !

पूज्य दीपकभाई पूज्य नीरु माँ की संपूर्ण आधीनता मेंरहकर अध्यात्म में उत्तरोत्तर प्रगति करते गए। उन्होंने विश्वभर में भ्रमण करके ज्ञानविधि और सत्संग किए, जो आज भी जारी हैं। और लाखों लोगों को आत्मज्ञान प्रदान किया। आज भी पूज्य दीपकभाई हज़ारों लोगों को सत्संग और ज्ञानविधि दे रहे हैं, जिससे उनके जीवन सुख और आंतरिक शांतिमय हो गए हैं।
ऐसे शाश्वत सुख का अनुभव करने के लिए आप भी एक बार पूज्य दीपकभाई द्वारा दी जानेवाली ज्ञानविधि में अवश्य भाग लें।आईए अपनी सही पहचान को जानिए…
अंधेरीमे सत्संग कार्यक्रम:२, ३और५मई, शाम६:३०से९, ज्ञानविधि: ४मई, शाम५:३०से९. पुज्य श्रीका बच्चोंके साथ सत्संग और बच्चोंद्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम: १मई, शाम५से९. स्थल: अंधेरीस्पोर्ट्सकॉंप्लेक्स, अंधेरी (वेस्ट). संपर्क: ९३२३५२८९०१
डोम्बीवलीमे सत्संग कार्यक्रम: ६मई, शाम७से९:३०बजे, ज्ञानविधि: ७मई, शाम ६:३० से१० बजे तक. स्थल: के.डी.एम.सी. ग्राउंड, पेंढारकर कॉलेजके पास, गरडा सर्कल, डोम्बीवली (ईस्ट). संपर्क: ९३२३५२८९०१

Powered By Indic IME