मुशर्रफ के खिलाफ राष्ट्रद्रोह मामले में सुनवाई का विरोध

Posted on November 25 2013 by yogesh

इस्लामाबाद : परवेज मुशर्रफ के खिलाफ भीषण देशद्रोह का मुकदमा चलाए जाने की पहल करने संबंधी फैसले का पूर्व सैन्य शासक के प्रवक्तारजा बुखारी ने कड़ा विरोध किया है. उन्होंने इसे देश की सेना को कमतर करने का ‘घृणित प्रयास’ बताया. गौरतलब है कि मुशर्रफ के अंतरराष्ट्रीय प्रवक्ता रजा बुखारी ने कहा कि, ‘हमें तालिबान समर्थक नवाज सरकार द्वारा राष्ट्रद्रोह की प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा करने के समय को लेकर संदेह हैं.’

आपको बता दें कि बोखारी के अनुसार वह न केवल मजबूती के साथ इन आरोपों को नकारते हैं बल्कि इसे पाकिस्तानी सेना को कमतर करने के घृणित प्रयास के रूप में भी देखते हैं. यह सरकार द्वारा पाकिस्तान के समक्ष पेश मौजूदा खतरों से ध्यान हटाने काभी सोचा समझा प्रयास हो सकता है. उन्होंने कहा कि मुशर्रफ ने संविधान के अनुच्छेद 232 के तहत उन्हें प्रदत्त शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए 3 नवंबर 2007 को आपातकाल घोषित किया था और संविधान के कुछ अनुच्छेदों पर थोड़े समय के लिए रोक लगा दी थी.

प्रवक्ता ने पूर्व राष्ट्रपति की ओर सेबयान जारी करते हुए कहा, ‘मुशर्रफ ने यह बहुप्रतीक्षित कदम न्यायपालिका के एक हिस्से में सुधार तथा पाकिस्तान में तबाही मचाने वाले आतंकवादियों और उग्रवादियों के खिलाफ सुरक्षा अभियानों को तेज करने के लिए उठाया था.’

Powered By Indic IME