मोदी की कुंडली में राजयोग?

Posted on September 23 2013 by yogesh

अहमदाबाद : गत 17 सितंबर यानि मंगलवार को भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन था. मोदी एक के बाद एक ख्याति प्राप्त करते ही जा रहे हैं और उनके प्रशंसकों की संख्या भी दिन ब दिन बढ़ रही है. गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा चुनाव में तीसरी बार विजय पताका लहराने के बाद मोदी की नजर अब दिल्ली की गद्दी पर है. ज्योतिषियों की मानें तो मोदी की कुंडली में राजयोग है, जो उनकी बाधाओं को दूर करेगा. ग्रहों की स्थिति देखें तो ऐसा संकेत मिलता है कि अगले साल दिल्ली के लालकिला पर मोदी तिरंगा लहराएंगे. हालांकि कुछ ग्रहों के कारण थोड़ी बाधाएं आसकती हैं.

आपको बता दें कि नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को हुआ था और उनकी कुंडली में वृश्चिक लग्न और वृश्चिक राशि है. इनके जन्म के समय चन्द्रमा और मंगल दोनोंही कुंडली के पहले घर में वृश्चिक राशि में बैठे थे.  बताते हैं कि वृश्चिक लग्न में मंगल लग्नेश होकर बैठता है और चंद्रमा जब भाग्येश होता है और लग्न में जब ये संयोग करते हैं, तब राजयोग बनता है. मोदी की कुंडली के ग्यारहवें घर में सूर्य बुध, केतु एवं नेप्चयून के साथ बैठा है.  गुरु चौथे घर में शुक्र और शनि के आमने-सामने बैठे हैं. मंगल इनका लग्न स्वामी है और अपने ही घर में बैठा है जिससे मोदी आत्मबल और साहस से अपने विरोधियों को मात देते हुए आगे बढ़ते जाएंगे. मंगल की इसी स्थिति के कारण मोदी अपने विरोधियों को कभी माफ नहीं कर पाते और मौका मिलने पर विरोधियों से बदला जरूर लेते हैं.

आपको बता दें कि ग्रहों की इस स्थिति के कारण मोदी की कुंडली में कई शुभ योग बने हुए हैं. जैसे गज केसरी योग, मूसल योग, केदार योग,  रूचक योग,  वोशि योग, भेरी योग, चंद्र मंगल योग,  नीच भंग योग, अमर योग, कालह योग, शंख योग तथा वरिष्ठ योग. इन शुभ ग्रहों के प्रभाव के चलते ही नरेंद्र मोदी को भाजपा में सबसे वरिष्ठ पद पर पहुंचने का मौका मिला. इनके साथ ही पंचम स्थान और भाग्य स्थान कुंडली में बहुत महत्व रखते हैं. स्वामी चंद्रमा केंद्र में है और जिस वक्त चुनाव होगा, उन दिनों नरेन्द्र मोदी के भाग्यस्थान में बृहस्पति होगा, जो निश्चित ही फलदायी होगा. इनकी कुंडली में गजकेसरी योग है, जो इनकी बाधाओं को दूर करने के साथ ही इन्हें शीर्ष तक पहुंचने में मददगार सिद्ध होगा. ग्रहों की चाल और गोचरों की स्थिति तो मोदीके हित में है, अब देखना ये है कि सितारे उन्हें कहां तक सफल बनाते हैं.

Powered By Indic IME