प्याज रूला रही है

Posted on August 27 2013 by yogesh

नई दिल्ली : इस महंगाई केसमय में आम जनता कैसे अपना गुजारा कर रही है यह वही जानती है.इतनी महंगाई क्या कम थी कि प्याज के दाम इतने बढ़ा दिए कि आम जनता अपनेहीआंसुओं में डूबी जा रही है. इतना ही नहींइस प्याज को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई. गौरतलब है कि दिल्ली में कई जगह प्याज के स्टाल लगे हैंजिनमें एक में शीला सरकार 50 रु किलो प्याज बेच रही है तो दूसरी तरफ विपक्षी दलभाजपा और अभी अस्तित्व में आई केजरीवाल की आम आदमी पार्टी 40 रु किलोप्याज बेच रही है.

लेकिन कहते हैं ना कि ये पब्लिक सब जानती है.’ जनता भी अब समझने लगी है कि यह सब राजनीति है और कुछ नहीं. इन सबके बीच जनता भी अपना रास्ता चुन रही है और जहां से सस्ता प्याज मिल रहा है वहीं से खरीद रही है. हां,यह बात अलग है कि जैसा दामलोग दे रहे हैं वैसा ही प्याज लोगों को मिल रहा है. लेकिन यहां प्रश्न यह उठता है कि अगरयह सब राजनीति है तो गरीब जनता किसके पास जाए. जिसे वह अपना प्रतिनिधि चुनकरसत्ता पर बिठाती है वहीं जनता को सिर्फ अपने इस्तेमाल करने का मोहरा भर समझ रहे हैं.

आप को बता दें कि मोदी को चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद भले हीभाजपापार्टी के अंदर मनमुटाव हो लेकिन भाजपा जीत के लिए पूरे दम खम से चुनाव प्रचार कर रही है. मोदी सबकोनए-नए गुण सिखाने में लग हुए हैंऔर आंध्र प्रदेश में मोदी के भाषण के बाद मोदी केप्रधानमंत्री बनने के सपने में तेजी आई है.

आपको बता दें कि गत रविवार को मोदी के नेतृत्व में दिल्ली में चुनाव प्रचार समिति की बैठकहुई जिसमे लोकसभा चुनाव के साथ-साथ 5 राज्यों में होने वाले चुनाव पररणनीति पर बात की गई. वहीं लोगों का मानना है कि आज के प्याज की राजनीती भी मोदी के दिमाग की उपजलगती है.वहीं सवाल यह भी उठता है कि प्याज पर ही सियासत क्यों?देश में पेट्रोल बिजली केसाथ साथ और भी काफी कुछ है जो जनता सस्ते में चाहती है तो क्या देश कीसरकार महंगाई के इस दौर में बढ़ी सभी चीजों के स्टाल लगाना शुरू करेगीऔर भाजपा या कोई और पार्टी उसमें सरकार की बराबरी करेगी?

गौरतलब है कि 1998में भी एक बारप्याज की ही वजह से भाजपा सरकार दिल्ली की सत्ता से बेदखल हो गई थी. कांग्रेस इसघटना को अपने साथ दोबारा नहीं होते देखना चाहती लिहाजा प्याज की बढ़ीकीमतों से घबराई कांग्रेस ने दिल्ली के लोगों को राहत देने के लिए प्याज केआउटलेट खोलने का फैसला किया है. देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस का यह फैसला कितना कारगर साबित होता है.

Powered By Indic IME