हेलीकॉप्टर घोटाले में सूचना पाने के लिए सरकार ने कस ली है कमर

Posted on February 25 2013 by yogesh

नई दिल्ली : इटली के दूसरे सबसे बड़े औद्योगिक समूह फिनमेसानिका ने भारत सरकार के साथ ७३ करोड़ ५० लाख डॉलर मूल्य के हेलीकॉप्टरों का सौदा किया था जिसमें सौदा करनेवाले इस इतालवी औद्योगिक समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं अध्यक्ष जिउसेप्पे ओर्सी पर इस सौदे के लिए दलालों को रिश्वत देने का आरोप लगा और उसे इस जुर्म में उन्हें गिरफ्तार भी किया गया. अब इटली की एक अदालत ने हेलिकॉप्टर घोटाले से संबंधित आरोपपत्र की सत्यापित प्रति सीबीआई को उपलब्ध कराने से इंकार कर दिया है. इस संदर्भ में विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने संसद भवन परिसर में पत्रकारों से कहा कि सभी दरवाजे कभी बंद नहीं होते, जब तक वहां की शीर्ष अदालत ना नहीं कह देती तब तक दरवाजे खुले हैं. आवश्यक सूचना प्राप्त करने के लिए हम सभी कानूनी विकल्पों को तलाशेंगे.

गौरतलब है कि खुर्शीद इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या इटली से आवश्यक सूचना प्राप्त करने में देश के लिए दरवाजे बंद हो चुके हैं. खुर्शीद ने यह भी कहा कि हमें इटली की अदालती प्रक्रिया के मुताबिक आगे बढ़ना होगा और उचित प्रक्रिया के माध्यम से हमें जो भी सूचना मिल सकती है हम उसे हासिल करने का प्रयास करेंगे. अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होने यह भी कहा कि भारत हर देश के कानून की इज्जत करता है और उम्मीद करता है कि वह देश भी हमारे देश के कानून का सम्मान करे.

खुर्शीद के इन बातों से तो यही लगता है कि भारत ने जानकारी पाने के लिए कमर कस ली है और सच जल्द ही सबके सामने आएगा या यह हमारा सिर्फ भर्म है. दिल्ली अभी भी दूर है?

Powered By Indic IME