मुफ्त में करें कॉल..

Posted on December 26 2012 by yogesh

मुंबई (पिट्स प्रतिनिधि) : वर्तमान समय में मोबाइल जीवनावश्यक वस्तुओं में से एक हो गया है. आज प्रत्येक व्यक्ति के पास मोबाइल अवश्य होता है लेकिन कभी कभी जरूरत पड़ने पर यह मोबाइल भी धोका दे देता है. जी हां, आप कोई जरूरी बात कर रहे हों ऐसे में अगर आपका मोबाइल बैलेंस खत्म हो जाता है तो आपके लिए समस्या खड़ी हो जाती है. आसपास कोई बैलेंस करने की सुविधा ना हो तो और भी मूसीबत. ऐसे में कई ट्रिक एंड टिप्स हैं जिसके द्वारा यह समस्या खत्म हो जाएगी. आप बैलेंस खत्म होने के बाद भी अपनी जरूरी बातें शुरू रख सकते हैं. यदि कोई एमरजेंसी पड़ जाए और बैलेंस ना हो तो यह तरीके अपनाकर आप जीरो बैलेंस में कॉल या एसएमएस कर सकेंगे.

एयरटेल : यदि आप एयरटेल के सिम का इस्तेमाल करते हैं तो आप भी जीरो बैलेंस में बात करने की सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आप अपने फोन में *141# डायल करें. नंबर डायल करने के बाद मोबाइल स्क्रीन पर ५ एमरजेंसी विकल्प दिखेंगे. इसमें से यूजर को “कॉल मी बैक विकल्प” को चुनना होगा. इसके बाद हर महीने ३ मैसेज एमरजेंसी के समय फ्री में करने की सुविधा मिल जाएगी.

आइडिया : आइडिया का इस्तेमाल करनेवाले यूजर्स को मैसेज के साथ साथ कॉल करने की भी सुविधा कंपनी मुहैय्या करती है. इस सुविधा में उपभोक्ता को ४ रूपये का लोन दिया जाता है जो अगली बार रिचार्ज कराते समय काट लिए जाते हैं. यह सुविधा सहुलियत के अनुसार बहुत उचित है. इसक लिए आइडिया नंबर से *150*04# डायल करना होता है. इसके बाद मिले हुए ४ रूपये के लोन से आप बात कर सकते हैं. दिलचस्प ब तयह है कि इस लोन पर कोई बयाज नहीं देना पड़ता है.

रिलायंस : रिलायंस भी अपने यूजर्स को जीरो बैलेंस में भी कॉल या एसएमएस की सुविधा देता है लेकिन अभी यह सुविधा केवल मेरा नेटवर्क सर्विस” में ही है. इसे एक्टिवेट करने के लिए यूजर को ACT CC लिखकर 53739 पर एसएमएस भेजना होता है.

वोडाफोन : वोडाफोन उपभोक्ताओं के लिए भी यह सुविधा उपलब्ध है. इसमें जीरो बैलेंस में बात करने के लिए आपको बैलेंस खत्म होने पर अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार से जिसके पास वोडाफोन का नंबर हो उससे बैलेंस उधार लेना होता है. इसके लिए मोबाइल स्क्रिन पर *131* एमआरपी* अपने दोस्त का नंबर# डायल करना होता है. दोस्त की ओर से कंफर्मेशन मिलने पर ही आपको कॉल या मैसेज करने के लिए बैलेंस मिलता है.

Powered By Indic IME