कछुए के अधिक उम्र का राज?

Posted on December 26 2012 by yogesh

कछुआ अपनी धीमी चाल और ज्यादा उम्र की वजह से जाना जाता है. यह पृथ्वी पर रेंगनेवाले यानी सरीसृप जीवों की श्रेणी में आते हैं. इस जीव की उम्र १५० साल से भी ज्यादा हो सकती है. इस पृथ्वी पर सबसे ज्यादा जीवित रहनेवाले कछुए की उम्र २२६ वर्ष थी, जिसकी मृत्यु १७ जुलाई १९७७ को हुई थी.

जी हां, कछुए की उम्र इतनी हो सकती है और क्या आपको पता है इसके पीछे कारण क्या है? वास्तव में कछुओं का विकास लगातार होते रहता है और वह सुप्तावस्था में रहता है. इसके अलावा अन्य सरीसृप जीवों के तरह ही कछुआ भी शीत रक्त(कोल्ड ब्लडेड) वाला होता है. इसलिए स्वंय को सक्रीय रखने के लिए उसे शरीर को गर्म करने की आवश्यकता पड़ती है. वह आसपास के वातावरण से गर्मी लेते हैं.

आपको बता दें कि सर्दियों में जब आहार की समस्या बढ़ जाती है तब तापमान काफी कम हो जाता है और कछुए खाना बंद कर देते हैं. शीत ऋतु में उनके सांस लेने की गति और दिल की धड़कन भी धीमी पड़ जाती है जिसकी वजह से वह गहरी नींद में चले जाते हैं. अध्ययन से पता चला है कि शुरूआती दिनों में कछुओं का विकास बहुत तेजी से होता है और यह निरंतर विकास करते हैं लेकिन उम्र के साथ साथ यह गति धीमी पड़ने लगती है.

Powered By Indic IME