धमकियां देने के बजाय भ्रष्टाचार के आरोपों पर सफाई दें वीरभद्र- भाजपा

Posted on October 29 2012 by yogesh

नई दिल्ली: देश में भ्रष्टाचार का जाल जिस तरह फैला हुआ है और प्रत्येक नेता पर आए दिन आरोप लग रहे हैं उन्हे देखते हुए ऐसा लगता है कि देश में ईमानदार वही है जिसको कभी रिश्वत लेने का मौका नहीं मिला. हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं और जब कुल्लु में उनपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बारे में पूछा गया तो उन्होने कैमरा तोड़ देने की बात कही. वीरभद्र सिंह के इस टिप्पणी पर भाजपा ने उन्हे सलाह दिया है उन्हे इस तरह धमकाने की बजाय भ्रष्टाचार के आरोपों पर सफाई देनी चाहिए.

भाजपा हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री पर धोखाधड़ी, धन शोधन, रिश्वत लेने और आयकर नहीं देने के लगे आरोपों की जांच करने की मांग कर रही है. भाजपा के वरिष्ठ नेता अब्बास नकवी ने यह कहा है कि ‘मीडिया पर हमला करके वीरभद्र भ्रष्टाचार के आरोपों से भाग नहीं सकते.’ उन्होने यह भी कहा की वीरभद्र खंभा नोचनेवाली बात कर रहे हैं. संदेशवाहकों को धमकाने की बजाय उन्हे चाहिए कि वह संदेश की चिंता करे जो भ्रष्टाचार में उनकी भागीदारी के साफ संकेत दे रहा है.

वहीं दूसरी ओर वीरभद्र ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर कहा है कि जेटली मेरे इनकम टैक्स रिटर्न पर कैसे बोल सकते हैं. उन्होने सफाई देते हुए कहा है कि ‘मेरा नाम कंपनी की डायरी में नहीं है, मैने सीबीआई जांच की मांग की थी, मैं आरोपों से पूरी तरह इंकार करता हूं.’ वीरभद्र ने यह भी कहा है कि भाजपा मुझ पर झूठे आरोप लगा रही है. अब यह तो समय ही बताएगा कि कौन सच कह रहा है और कौन झूठ?

Powered By Indic IME