चीन से हमें एक और हार का सामना करना पड़ सकता है- रिजूजू

Posted on October 29 2012 by yogesh

तवांग: अरूणाचल प्रदेश(पश्चिम) के पूर्व सांसद व भारतीय  जनता पार्टी के युवा नेता किरेन रिजूजू ने जो बातें सामने रखी हैं वह ना केवल देश के लिए एक चिंता का विषय है बल्कि देशवासियों को भी सोचने पर मजबूर कर देगा. युवा नेता किरेन रिजूजू के अनुसार भारत-चीन सीमा के नजदीक चीन की गतिविधियां चिंतित करनेवाली हैं. रिजूजू का कहना है कि यदि केंद्र सरकार ने १९६२ की गलतियों से सीख नहीं ली और ध्यान नहीं दिया तो युद्ध की स्थिति में हमें एक और हार का सामना करना पड़ सकता है.

रिजूजू ने यह बातें भाजपा की युवा इकाई भारतीय जनता युवा मोर्चा की शहीद श्रद्धांजलि यात्रा के दौरान दी, उन्होने १४वीं लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद भाजपा छोड़ दी थी. रिजूजू ने कहा कि ‘चीन की सीमा पार हो रही गतिविधियां हमारे लिए चिंता का सबसे बड़ा कारण है. वे लगातार अपने संसाधनों का विकास कर रहे हैं वहीं हम अपनी ओर जरा भी ध्यान नहीं दे रहे हैं. हमारी सरकार सोई हुई है. यदि कल चीन हम पर हमला कर दे तो हम उनका मुकाबला नहीं कर सकते हैं.’ गौरतलब है कि कांग्रेस में शामिल होने के लिए उनकी अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव राहुल गांधी तक से मुलाकातें हो चुकी हैं लेकिन रिजूजू ने कांग्रेस को दरकिनार करते हुए तीन सालों के बाद भाजपा में वापसी की है.

अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए उन्होने कहा कि ‘यदि चीन से हमारा मुकाबला हुआ तो हमें एक और हार के लिए तैयार रहना पड़ेगा. यहां परिवहन की स्थिति इतनी खराब है कि बोफोर्स और अन्य युद्धक सामग्रियों के यहां तक पहुंचने में कई दिन लग जाएंगे और तब तक चीन हम पर हावी हो चुका होगा. अरूणाचल प्रदेश के लोगों का मन भारत में बसा हुआ है लेकिन चीन उन्हे लालच देने के लिए अपने संसाधनों को बढ़ा रही है और हर संभव प्रयत्न कर रही है. यहां के लोग चीन को अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझते हैं लेकिन भारत सरकार को उनकी भावनाओं की कोई चिंता नहीं है.

राहुल गांधी पर टिप्पणी करते हुए उन्होने कहा कि,’कांग्रेस से जुड़ने को लेकर राहुल से मेरी कई मुलाकातें हो चुकी हैं लेकिन उनका अपना कोई विचार नहीं है. उन्हे बोलने के लिए जो चिट्ठा दे दिया जाता है वह वही बोलते हैं. बगैर चिट्ठे  केवह १० मिनट भाषण नहीं दे सकते. ऐसी परिस्थिति में उन्हे देश का भावी प्रधानमंत्री कैसे कहा जा सकता है. रिजूजू ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस देश का विकास इसलिए नहीं चाहती क्योंकि वह चाहती है कि गरीबों की गरीबी बनी रहे और उन्हे वह बेवकूफ बनाती रहे तथा वोट बैंक के रूप में उनका इस्तेमाल करती रहे.

अपने कार्यकाल में कई संस्थानों की ओर से सर्वश्रेष्ठ युवा सांसद का पुरस्कार जीत चुके रिजूजू का कहना है कि संसद ना होने की वजह से वह अरूणाचल प्रदेश की आवाज नहीं उठा पा रहे हैं. लेकिन वह जल्द ही संसद पहुंचेंगे और अरूणाचल प्रदेश के लोगों की आवाज उठाएंगे. उनका कहना है कि अरूणाचल के लोगों के मन में राष्ट्रीयता बनाए रखने की जरूरत है.

Powered By Indic IME