बाघ को मारोगे तो मरना पडेगा वनमंत्री पतंगराव कदम का शुट का ऑर्डर

Posted on May 28 2012 by pits

मुंबई (पिट्स प्रतिनिधि)- अपना पक्ष रखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि वन अधिकारियो द्वारा बाघो का अवैध शिकार करने पर उठाए गए कडे कदम को क्राइम नही कह सकते है. “अगर कोई भी व्यक्ती बाघ का अवैध शिकार करते हुए पाया गया तो उसे वन अधिकारी गोली तक मार सकते या घायल भी कर सकते है और इसे कोई क्राइम नही माना जाएगा”, ऐसा कहना है वन मंत्री पतंगराव कदम का. उनका कहना है की उनके मंत्रालय ने और 70 गार्डस् को ‘टडोबा टाइगर रिर्जव’ और 90 गार्डस् को जंगल की रखवाली के काम पर रखा गया है.और वे हथियार से लेस होंगे. उनका कहना है कि कुछ ऐसी भी वारदाते हुई है जिसमे मानव अधिकार संघ ने अवैध शिकार करनेवाले लोगो के खिलाफ कार्यवाही किए जाने पर गार्डस् को दोषी करार दिया है जिसके कारण वन मंत्री इस तरह की घटनाए दोबारा नही होने देना चाहते है. इसके अलावा चार लोगो कि एक्सपर्ट कमिटी जो कि जंगल आरक्षण के पद पर है उसे सरकार ने बाघ का अवैध शिकार करनेवालो से कैसे बचाना है उसके सुझाव देने के लिए कहा है. इसके अलावा जंगल मे उन बाघो को किसी भी तरह कि परेशानी ना हो इसके लिए वन मंत्री कदम ने बिजली विभाग के अधिकारियों को बिजली तथा जल विभाग के अधिकारियो को पानी उपलब्ध करने के लिए कहा है. वन मंत्री कदम ने बाघो को गैर कानूनी तरिके से बेचनेवालो से बचाने के लिए ‘स्टेट रिजर्व पोलिस फोर्स’ नामक दल का निर्माण किया है. उन्होंने कहा है कि 50 लाख रुपये की धनराशि उन लोगो को मिलेगी जो उन्हे बाघो का अवैध शिकार करने और बेचनेवालो के बारे मे बताएंगा.

Powered By Indic IME